सुनो फल्की फौज शरीफ़

सुनो फल्की फौज शरीफ़

सुनो फल्की फौज शरीफ़

गाती यीशु की तारीफ़ |

आई रहम की निदा,

मिले अब इन्सान, खुदा |

कौमों उठो, हो शादमान,

फ़लक से मिलाओ गान |

तुम मुबारक सब कहो

बेतलहम के बच्चे को |

सुनो ! फलकी फौज शरीफ़ गाती यीशु की तारीफ़ |

जो मेहमूद आसमानों का,

जो माबूद जमानों का,

हो कुवारी से मौलूद

जिस्म में अब आ मौजूद |

वह मुजस्सम है कलाम,

ऐ खुदा-इन्सान, सलाम !

पहना आदम का लिबास

है खुदा हमारे पास |

सुनो ! फलकी फौज शरीफ़ गाती यीशु की तारीफ़ |

शाह सलामती के आदाद |

तू जो रास्ती का आफ़ताब |

सब को ज़िन्दगी और नूर

तू ही बख्शता है भरपूर |

खाली की सब अपनी शान

ता न मारे फिर इन्सान |

बनी आदम हों बुलंद

दुसरे जनम के फजंद |

सुनो ! फलकी फौज शरीफ़ गाती यीशु की तारीफ़ |

कौमो की मुराद, अब आ,

हम में अपना घर बना |

उठ, ऐ औरत की नसल

हम में सांप का सर कुचल |

शक़्ल आदम की मिटा,

अपनी सूरत दे बैठा

दूसरा आदम ऊपर से

अपनी उल्फत से भर दे

सुनो ! फलकी फौज शरीफ़ गाती यीशु की तारीफ़ |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.